कोरोना वायरस,  जनरल,  ट्रेंडिंग,  समाचार

लॉकडाउन जोन – ग्रीन, ऑरेंज, रेड जोन एरिया क्या है? क्या है लॉकडाउन 3.0 की गाइडलाइन्स?

रेड जोन एरिया, लॉकडाउन खबर, लॉकडाउन अर्थ, lockdown meaning, लॉक डाउन कब खुलेगा, लॉक डाउन क्या है, लॉक डाउन कब तक रहेगा, lockdown, लॉक डाउन कब खत्म होगा, लॉक डाउन कब तक चलेगा, गूगल लॉक डाउन कब खुलेगा, कोरोना वायरस के, कोरोना वायरस का, कोरोना वायरस टिप्स, कोरोना वायरस की, कोरोनावायरस, ग्रीन जोन एरिया, ऑरेंज जोन एरिया

इस लेख में हम बात करेंगे लॉकडाउन जोन के बारे में।  ग्रीन, ऑरेंज, रेड जोन एरिया क्या है? क्या है लॉकडाउन 3.0 की गाइडलाइन्स? आइये जानते हैं इन सभी सवालों के जवाब।

सारी पाबंदियों के बावजूद, कोरोना वायरस का कहर देश में लगातार बढ़ता ही जा रहा है। अबतक 35 हजार से अधिक लोगों के इस वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि हो चुकी है और 1100 से अधिक लोग अपनी जान गंवा चुके हैं।

महाराष्ट्र, दिल्ली, गुजरात, मध्य प्रदेश, चार ऐसे राज्य हैं, जिन्हे कोरोना वायरस ने सबसे अधिक प्रभावित किया है। इन चार राज्यों में कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या, देश के कुल संक्रमित लोगों की संख्या के एक तिहाई से भी अधिक है। सिर्फ महाराष्ट्र में ही कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या 10 हजार को पार कर चुकी है जिनमे 450 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है।


› लॉकडाउन जोन – ग्रीन, ऑरेंज, रेड जोन एरिया क्या है?

रेड जोन एरिया, लॉकडाउन खबर, लॉकडाउन अर्थ, lockdown meaning, लॉक डाउन कब खुलेगा, लॉक डाउन क्या है, लॉक डाउन कब तक रहेगा, lockdown, लॉक डाउन कब खत्म होगा, लॉक डाउन कब तक चलेगा, गूगल लॉक डाउन कब खुलेगा, कोरोना वायरस के, कोरोना वायरस का, कोरोना वायरस टिप्स, कोरोना वायरस की, कोरोनावायरस, ग्रीन जोन एरिया, ऑरेंज जोन एरिया

कोरोना वायरस महामारी ने देश के लगभग हर हिस्से को अपनी चपेट में ले लिया है। देश के अलग-अलग जिलों में कोरोना वायरस संक्रमण की स्थिति के अनुसार केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने इन्हें तीन जोन में बांटने का फैसला किया है। जिनमे ग्रीन जोन एरिया, ऑरेंज जोन एरिया, और रेड जोन एरिया शामिल हैं।

› कैसे बनाया जाता है ग्रीन, ऑरेंज और रेड जोन एरिया?

→ रेड जोन एरिया – जहाँ सक्रिय कोरोनावायरस मामलों की संख्या लगातार बढ़ रही है। रेड जोन में आने वाले कुछ शहरों में मुंबई, पुणे, नई दिल्ली, इंदौर के साथ-साथ 130 अन्य जिले भी शामिल हैं। कोई भी जिला जहां 4 दिनों की अवधि में कोरोनोवायरस के मामले दोगुने हो जाते हैं, लाल क्षेत्र में आता है। रेड जोन एरिया को हॉटस्पॉट भी कहा जाता है।

→ ऑरेंज जोन एरिया – जिन जिलों का अवलोकन किया जा रहा है और संभावित कोरोनावायरस हॉटस्पॉट के रूप में देखा जाता है, वे नारंगी क्षेत्र के अंतर्गत आते हैं। सरल शब्दों में, नारंगी क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले जिलों में बहुत अधिक मामले नहीं होते हैं, लेकिन विस्फोट की तरह मामले कभी भी बढ़ सकते हैं। वर्तमान में 284 जिले हैं जो ऑरेंज जोन एरिया के अंतर्गत आते हैं।

→ ग्रीन जोन एरिया – स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी ताज़ा नियमों के अनुसार, अगर किसी जिले में 21 दिनों तक कोरोना संक्रमण का कोई नया केस नहीं आता है, तो वह ग्रीन जोन एरिया माना जाएगा, पहले यह समय सीमा 28 दिनों की थी। अभी 319 जिले हैं जो ग्रीन जोन के अंतर्गत आते हैं।


› रेड, ऑरेंज और ग्रीन जोन से सम्बंधित अन्य मुख्य बातें

  • रेड जोन एरिया में किसी भी तरह की आवाजाही पर रोक होगी।
  • ऑरेंज जोन एरिया में स्थानीय प्रशासन द्वारा कुछ छूट का ऐलान किया जा सकता है।
  • ग्रीन जोन एरिया में लॉकडाउन के सामान्य नियम लागू होंगे, यानी जरूरत की दुकानें खुलेंगी। हालांकि, इसका निर्धारण भी स्थानीय प्रशासन द्वारा ही किया जाएगा।
  • राज्य सरकार के इनपुट के आधार पर केंद्र सरकार द्वारा लगातार इस लिस्ट में बदलाव किया जाएगा।
  • इस लिस्ट में बदलाव पूरे हफ्ते की रिपोर्ट के आधार पर किया जाएगा।

› आपका जिला किस जोन में आता है?

स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार, अभी देश के सभी मेट्रो शहर रेड जोन एरिया में ही रहेंगे, क्योंकि यहां कोरोना वायरस के फैलने का खतरा सबसे अधिक है। यानी अभी दिल्ली, मुंबई, चेन्नई, कोलकाता, हैदराबाद, बेंगलुरु, अहमदाबाद के साथ 130 अन्य जिलों को रेड जोन एरिया में रखा गया है। इसके अलावा महाराष्ट्र के 14, दिल्ली के 11, तमिलनाडु के 12, उत्तर प्रदेश के 19, पश्चिम बंगाल के 10, गुजरात के 9, मध्य प्रदेश के 9 और राजस्थान के 8 जिलों को भी रेड जोन में शामिल किया गया है।


› लॉकडाउन 3.0 की गाइडलाइन्स

अपने राज्य में ई-पास कैसे प्राप्त करें, ई-पास, कर्फ्यू पास कैसे प्राप्त करें, कैसे प्राप्त करें लॉकडाउन के दौरान यात्रा पास, कोरोनोवायरस ई-पास कैसे प्राप्त करें, कोविड -19 ई-पास, कोविड -19 ई-पास के लिए कौन से दस्तावेज आवश्यक हैं, कोविड -19 ई-पास कैसे प्राप्त करें, दिल्ली में ई-पास कैसे प्राप्त करें, दिल्ली में ई-पास ऑनलाइन कैसे प्राप्त करें, दिल्ली में ई-पास के लिए आवेदन कैसे करें, पंजाब में ई-पास कैसे प्राप्त करें, भारत में कोविड -19 ई-पास कैसे प्राप्त करें, मूवमेंट पास, व्हाट्सएप (Whatsapp) पर कोविड -19 ई-पास के लिए आवेदन कैसे करें, यूपी में कोविड -19 ई-पास कैसे प्राप्त करें, बिहार में कोविड -19 ई-पास कैसे प्राप्त करें, how to apply for covid-19 e-pass, e-pass, movement pass, curfew pass, get covid-19 e-pass, how to get e-pass in your state, how to get coronavirus e-pass, how to get travel pass during lockdown, how to get e-pass in delhi, how to get e-pass in punjab, how to covid-19 e-pass in india

नहीं, 3 मई को लॉक डाउन नहीं खोला जाएगा और इसे 17 मई तक बढ़ा दिया गया है, लेकिन सभी भारतीय जिलों को 3 अलग-अलग क्षेत्रों में विभाजित किया जाएगा, जिनकी हम ऊपर चर्चा कर चुके हैं।

हर जोन में लॉकडाउन के नियम अलग-अलग होंगे, जिनमे से सबसे ज्यादा सख़्ती रेड जोन एरिया में बरती जाएगी। ऑरेंज ज़ोन क्षेत्रों में कुछ छूट होगी जबकि ग्रीन जोन क्षेत्रों में जनता के लिए सबसे आसान लॉकडाउन नियम होंगे।

17 मई तक देश भर में सभी (रेड/ऑरेंज/ग्रीन) जोन में सड़क, रेल, मेट्रो, हवाई मार्ग से अंतरराज्यीय आवाजाही प्रतिबंधित रहेगी। इसके अलावा स्कूल, कॉलेज अन्य शिक्षण संस्थान, होटल व रेस्टोरेंट, सिनेमा हॉल, मॉल, जिम, खेल परिसर आदि बंद रखने का निर्णय लिया गया है। वहीं सभी जोन में, गैर जरूरी आवाजाही पर भी शाम 7 बजे से सुबह 7 बजे के बीच रोक रहेगी। सभी जोन में, गैर जरूरी आवाजाही पर भी शाम 7 बजे से सुबह 7 बजे के बीच रोक रहेगी। 10 वर्ष से कम उम्र के बच्चे और 65 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों के बाहर निकलने पर पूर्ण प्रतिबंध लगा दी गयी है।

नीचे दिए गए किसी भी बटन को दबाकर इसे अपने प्रियजनों के साथ साझा करें!

मैं पेशे से एक इलेक्ट्रिकल इंजीनियर हूं, हालांकि मशीनें मुझे उतनी उत्साहित नहीं करती, जितना कि शब्द करते हैं। मुझे लिखना बहुत पसंद है और विभिन्न स्रोतों से मैं लिखने का अभ्यास करता रहता हूं। कुछ समय से मैने इंटरनेट पर अपना योगदान देना शुरू किया है। मैं अंग्रेजी में कुछ अन्य ब्लॉग भी चला रहा हूं। मुझे इस बात की आवश्यकता महसूस हुई कि हिंदी में एक अच्छी वेबसाइट होनी चाहिए जो हिंदी पढ़ने वाले समुदाय को उपयोगी सामग्री प्रदान कर सके। इसलिए, यह ब्लॉग मुख्य रूप से केवल हिंदी पाठकों के लिए केंद्रित है और हर शब्द विशुद्ध रूप से देवनागरी लिपि में लिखा गया है।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *