कोरोना वायरस,  जनरल,  ट्रेंडिंग,  स्वास्थ्य

कोरोना संकट – यात्रा के समय किन सावधानियों का ध्यान रखें

कोरोना संकट, कोरोना वायरस, कोरोना वायरस में यात्रा, सोशल डिस्टेंसिंग, पब्लिक ट्रांसपोर्ट, कोरोना वायरस में सावधानिया

इस लेख में आप ये जानेंगे की कोरोना वायरस में यात्रा के दौरान किन किन बातों का ध्यान रखना चाहिए ताकि आप कोरोना वायरस के संक्रमण से बच सकें। आपकी यात्रा चाहे हवाई मार्ग से हो, ट्रेन, बस या कार से हो, निम्नलिखित बातों का ध्यान रखकर आप कोरोना वायरस के संक्रमण के ख़तरे को काफी हद तक कम कर सकते हैं।

वैश्विक महामारी, COVID-19 ने पूरी दुनिया को एक तरह से बंधक बना लिया है। कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के लिए अभी तक ना तो कोई वैक्सीन विकसित हो पाया है और ना ही कोई दवाई। तमाम देशों में कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव या संक्रमित लोगों के इलाज के लिए विभिन्न दवा कम्पनियों द्वारा विभिन्न दवाओं और वैक्सीन का परीक्षण जोर शोर से जारी है और जबतक दवाइयों का निर्माण नहीं हो जाता और बाज़ार में सबके लिए आसानी से उपलब्ध नहीं हो जाता, इससे बचाव का एकमात्र और सटीक उपाय है सोशल डिस्टेंसिंग (कम से कम 6 फीट की दूरी) का पालन।

सोशल डिस्टेंसिंग का पालन और कोरोना वायरस की प्रकृति, जैसे हवा में इसकी मौजूदगी ने तमाम उद्योग धंधों को बुरी तरह से प्रभावित किया है, और जो उद्योग सबसे ज्यादा प्रभावित हुआ है उसमे शामिल है, टूरिज्म। टूरिज्म के लिए यात्रा आवश्यक है और इस समय यात्रा करना खतरे से खाली नहीं है। इसलिए इन परिस्थतियों में यात्रा की अनुमति बिल्कुल ही नहीं दी जा सकती है, लेकिन कई बार ऐसी परिस्थितियां बन जाती है कि यात्रा को टालना संभव नहीं हो पाता।


यह भी पढ़ें: कोरोना वायरस से जुड़े 13 बेहद महत्वपूर्ण सवाल और उनके जवाब


सोशल डिस्टेंसिंग

लॉकडाउन 4, लॉकडाउन कब खुलेगा, लॉक डाउन 4 गाइडलाइन्स, लॉकडाउन 4 के बदलाव, लॉकडाउन 4 जानकारी, लॉकडाउन 4 के नियम, lockdown 4, lockdown 4 guidelines, lockdown 4.0, lockdown kab khulega, lockdown 4 ke niyam

यात्रा के दौरान कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव में जो सबसे अधिक सहायक हो सकता है वह है, सोशल डिस्टेंसिंग का पालन। कोरोना वायरस का संक्रमण, संक्रमित व्यक्ति के मुंह से निकले ड्रापलेट्स, थूक, लार, बलगम आदि के संपर्क में आने से होता है, अतः सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए, हम कोरोना वायरस के संक्रमण से काफी हद तक बचे रह सकते हैं।


मास्क पहन कर रहें

कोरोना संकट, कोरोना वायरस, कोरोना वायरस में यात्रा, सोशल डिस्टेंसिंग, पब्लिक ट्रांसपोर्ट, कोरोना वायरस में सावधानिया

कोरोना वायरस का संक्रमण, संक्रमित व्यक्ति द्वारा बोलने, खांसने, थूकने, छींकने आदि के क्रम में नाक या मुंह से निकलने वाले ड्रॉपलेट्स द्वारा अपने आस पास के लोगों को भी संक्रमित कर सकता है लेकिन यदि आपने मास्क पहन रखा है तो आप संक्रमित होने से बच सकते हैं। मास्क अच्छी तरह से पहने ताकि आपका नाक और मुंह दोनों अच्छी तरह से ढका रहे।


पब्लिक ट्रांसपोर्ट का उपयोग करने से बचें

कोरोना संकट, कोरोना वायरस, कोरोना वायरस में यात्रा, सोशल डिस्टेंसिंग, पब्लिक ट्रांसपोर्ट, कोरोना वायरस में सावधानिया

यात्रा के दौरान, कोरोना वायरस के संक्रमित व्यक्ति के सम्पर्क में आने से बचे रहने का सबसे आसान उपाय है, यात्रा के लिए निजी वाहन का उपयोग। यदि संभव हो तो निजी वाहन का उपयोग करें तथा रास्ते में कम से कम रुकने का प्रयास करें।


हवाई यात्रा या अन्य पब्लिक ट्रांसपोर्ट से यात्रा के दौरान

कोरोना संकट, कोरोना वायरस, कोरोना वायरस में यात्रा, सोशल डिस्टेंसिंग, पब्लिक ट्रांसपोर्ट, कोरोना वायरस में सावधानिया

यदि यात्रा को टालना संभव नहीं हो और यात्रा करना ही पड़े तो निम्न बातों का ध्यान अवश्य रखना चाहिए,

1. एयरपोर्ट, रेलवे स्टेशन या बस स्टेंड पर भीड़ भाड़ वाले क्षेत्रों में जैसे सुरक्षा जांच, बोर्डिंग, आदि के दौरान दूसरे यात्रियों से कम से कम 6 फीट की दूरी का ध्यान रखें।

2. किसी भी वस्तु या सतह को छूने से बचें।

3. हवाई जहाज के अंदर 6 फीट की दूरी का पालन करना संभव नहीं है लेकिन कोशिश करें खिड़की वाली सीट मिले।

4. सीट पर फेस मास्क को अच्छी तरह से लगा कर रखें। सीट पर बैठने के साथ ही अपने हाथ को सेनिटाइज करें तथा जब भी फेस, मुंह, आंख को छूना हो या फिर कुछ भी खाना-पीना हो तो हाथ को सेनीटाइज करना ना भूलें।

5. मास्क को छूने के बाद भी हाथ को सेनिटाइज करें।


पब्लिक वॉशरूम के इस्तेमाल में सावधानी

कोरोना संकट, कोरोना वायरस, कोरोना वायरस में यात्रा, सोशल डिस्टेंसिंग, पब्लिक ट्रांसपोर्ट, कोरोना वायरस में सावधानिया

पब्लिक वॉशरूम का इस्तेमाल कम से कम करने की कोशिश करें, लेकिन यदि इसका इस्तेमाल करना ही पड़े तो अत्यधिक सावधानी बरतें। इस्तेमाल करने से पहले, फ़्लश करना ना भूलें, फ्लस करते समय टॉयलेट का लीड बंद कर दें। इस्तेमाल से पहले तथा इस्तेमाल के बाद, हाथ को सेनिटाइज जरूर करें। मास्क अच्छी तरह से पहन कर रखें।


अंत में

बिना किसी काम के, यूं ही इधर उधर भीड़ भाड़ वाले इलाके में ना जाएं, यह काफी खतरनाक साबित हो सकता है, इससे बचें। रात को पब्लिक प्लेस में सोते समय भी मास्क लगाए रखें, भीड़ भाड़ वाली जगहों से दूर रहें तथा सोशल डिस्टेंसिग बनाए रखें (कम से कम 6 फीट की दूरी)। जहां आप जा रहें हैं चाहे वो आपका अपना घर हो या किसी दोस्त का, वहां भी सावधानी बरतना जरूरी है, ख़ासकर, टॉयलेट के इस्तेमाल, भोजन के समय आदि। वहां भी सोशल डिस्टेसिंग का ध्यान रखें। यदि संभव हो तो अपने आप को क्वारंटाइन करें ताकि आपके परिजन सुरक्षित रहें।

नीचे दिए गए किसी भी बटन को दबाकर इसे अपने प्रियजनों के साथ साझा करें!

मैं पेशे से एक इलेक्ट्रिकल इंजीनियर हूं, हालांकि मशीनें मुझे उतनी उत्साहित नहीं करती, जितना कि शब्द करते हैं। मुझे लिखना बहुत पसंद है और विभिन्न स्रोतों से मैं लिखने का अभ्यास करता रहता हूं। कुछ समय से मैने इंटरनेट पर अपना योगदान देना शुरू किया है। मैं अंग्रेजी में कुछ अन्य ब्लॉग भी चला रहा हूं। मुझे इस बात की आवश्यकता महसूस हुई कि हिंदी में एक अच्छी वेबसाइट होनी चाहिए जो हिंदी पढ़ने वाले समुदाय को उपयोगी सामग्री प्रदान कर सके। इसलिए, यह ब्लॉग मुख्य रूप से केवल हिंदी पाठकों के लिए केंद्रित है और हर शब्द विशुद्ध रूप से देवनागरी लिपि में लिखा गया है।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *