जनरल,  ज्ञान

चंद्र ग्रहण कैसे होता है और अगला चंद्र ग्रहण कब लगेगा

चंद्र ग्रहण, चंद्र ग्रहण कैसे लगता है, चंद्र ग्रहण कब लगेगा, चंद्र ग्रहण के प्रकार

चंद्र ग्रहण, एक ऐसी घटना जो लोगों को आश्चर्यचकित करती है और साथ ही धार्मिक रूप से महत्वपूर्ण मानी जाती है। हजारों साल तक प्राचीन काल के लोगों को ग्रहण का डर रहता था जब तक कि हमें अंत में पता नहीं चला कि चंद्र ग्रहण कैसे होता है। इस लेख में, हम इस बारे में बात करेंगे कि चंद्र ग्रहण कैसे होता है, चंद्रग्रहण के प्रकार क्या हैं और अगला चंद्रग्रहण कब लगेगा।


चंद्र ग्रहण कैसे होता है

चंद्र ग्रहण, चंद्र ग्रहण कैसे लगता है, चंद्र ग्रहण कब लगेगा, चंद्र ग्रहण के प्रकार

इस घटना को समझने के लिए आपको सबसे पहले यह जानना होगा कि हलके भूरे रंग के दिखने वाले चंद्रमा का अपना कोई प्रकाश नहीं होता। पृथ्वी से चंद्रमा को देख पाने का एकमात्र कारण सूर्य की उपस्थिति है। चंद्रमा की सतह पर पहुंचने के बाद सूर्य का प्रकाश परावर्तित हो जाता है और इस तरह हम चंद्रमा को देख पाते हैं। बाहरी अंतरिक्ष में किसी भी प्रकाश स्रोत की अनुपस्थिति में, सूर्य की तरह, हम चंद्रमा या किसी अन्य वस्तु को नहीं देख पाएंगे, जिसका अपना कोई प्रकाश नहीं है।

अब, जब पृथ्वी सूर्य से प्रकाश को चंद्रमा की सतह तक पहुंचने से रोकती है, तो हमारे ग्रह की छाया चंद्रमा तक पहुंचती है, जिससे चंद्रमा का कुछ हिस्सा हमें दिखाई नहीं देता है। इस घटना को चंद्रग्रहण के रूप में जाना जाता है और चंद्रग्रहण के 3 प्रकार हैं जिनके बारे में हमने नीचे चर्चा की है।


चंद्र ग्रहण के प्रकार

चंद्र ग्रहण, चंद्र ग्रहण कैसे लगता है, चंद्र ग्रहण कब लगेगा, चंद्र ग्रहण के प्रकार

तीन अलग-अलग प्रकार के चंद्र ग्रहण होते हैं और यह इस प्रकार हैं:

1. पूर्ण चंद्र ग्रहण

पूर्ण चंद्र ग्रहण, जैसा कि नाम से ही पता चलता है, तब होता है जब पृथ्वी की छाया चंद्रमा की सतह को पूरी तरह से ढक देती है। पूर्ण ग्रहण के दौरान चंद्रमा के लाल रंग के कारण दुनिया के विभिन्न हिस्सों में इसे “ब्लड मून” के रूप में भी जाना जाता है।

2. आंशिक चंद्र ग्रहण

आंशिक चंद्रग्रहण तब देखा जा सकता है जब चंद्रमा की सतह का आधा हिस्सा पृथ्वी की छाया से ढक जाता है। इससे चंद्रमा आंशिक रूप से दिखाई देता है।

3. पेनुमब्रल चंद्र ग्रहण

इस ग्रहण के दौरान, पृथ्वी की ना के बराबर छाया चन्द्रमा पर पड़ती है जिसकी वजह से चन्द्रमा हल्का धुंदला दिखाई देता है।


अगला चंद्र ग्रहण कब लगेगा

कुल मिलाकर 2020 में 3 और चंद्र ग्रहण होंगे जो नीचे सूचीबद्ध हैं। अच्छी खबर यह है कि भारत में रहने वाला कोई भी व्यक्ति अपने घर से 3 ग्रहण में से 2 देख सकेगा।

तारीखस्थानप्रकार
जून 5, 2020दक्षिण अमेरिका, यूरोप, अफ्रीका, एशिया और ऑस्ट्रेलिया के अधिकांशपेनुमब्रल ग्रहण
जुलाई 5, 2020उत्तरी अमेरिका, दक्षिण अमेरिका, पश्चिमी यूरोप और अफ्रीकापेनुमब्रल ग्रहण
नवंबर 30, 2020उत्तरी अमेरिका, दक्षिण अमेरिका, उत्तरी यूरोप, पूर्वी एशिया और ऑस्ट्रेलियापेनुमब्रल ग्रहण

आप इस पृष्ठ को बुकमार्क कर सकते हैं क्योंकि हम इस पेज को आगामी चंद्रग्रहण की नवीनतम तिथियों और समय के साथ अपडेट रखते हैं। 2020 में केवल 3 चंद्रग्रहण दिखाई देने वाले हैं, जो सभी ऊपर सूचीबद्ध हैं। भारत में दिखाई देने वाला अगला चंद्रग्रहण एक पेनुमब्रल ग्रहण होगा, जो 30 नवंबर, 2020 को दिखाई देगा।


निष्कर्ष

इस लेख में हमने चंद्रग्रहण, इसके प्रकारों और इस घटना के पीछे के विज्ञान के बारे में जाना। यह ध्यान दिया जाना है कि यह घटना हर साल कई बार होती है और इसे पृथ्वी के विभिन्न हिस्सों से देखा जा सकता है। हालांकि, कभी-कभी ग्रहण बहुत हल्का होता है और इससे चंद्रमा में किसी भी बदलाव को नोटिस करना मुश्किल हो सकता है।

नीचे दिए गए किसी भी बटन को दबाकर इसे अपने प्रियजनों के साथ साझा करें!

मैं पेशे से एक इलेक्ट्रिकल इंजीनियर हूं, हालांकि मशीनें मुझे उतनी उत्साहित नहीं करती, जितना कि शब्द करते हैं। मुझे लिखना बहुत पसंद है और विभिन्न स्रोतों से मैं लिखने का अभ्यास करता रहता हूं। कुछ समय से मैने इंटरनेट पर अपना योगदान देना शुरू किया है। मैं अंग्रेजी में कुछ अन्य ब्लॉग भी चला रहा हूं। मुझे इस बात की आवश्यकता महसूस हुई कि हिंदी में एक अच्छी वेबसाइट होनी चाहिए जो हिंदी पढ़ने वाले समुदाय को उपयोगी सामग्री प्रदान कर सके। इसलिए, यह ब्लॉग मुख्य रूप से केवल हिंदी पाठकों के लिए केंद्रित है और हर शब्द विशुद्ध रूप से देवनागरी लिपि में लिखा गया है।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *